Blog

मोदी जी से रायगढ़ के मन की बात भी सुने
डा.राजू

देश के प्रधानमंत्री एक छोटे से कस्बे में अपने सार्वजनिक उपक्रमों और अन्य कंपनियों के साथ प्रशासकीय बैठक लेते है तो यह उस क्षेत्र या कस्बे के लिए बहुँत ही महत्वपूर्ण मुद्दा है। रायगढ़ में NTPC, SECL और रेल्वे की अनेको परियोजनाएं, माइंस कार्यरत है और प्रस्तावित है । देश के प्रधानमंत्री रायगढ़ में इनके संचालन और विस्तार के संबंध में बैठक लेंगे,तथा शिलान्यास और लोकार्पण करेंगे। इसके साथ ही मोदी जी आम जनता को भी संबोधित करेंगे।उल्लेखनीय है की मोदी जी के मित्र अदाणी का विशाल कारोबार भी रायगढ़ में बड़ी तेजी से फल फूल रहा है आगे उसके विस्तार की असीम संभावनाएं है, अदाणी रायगढ़ में पावर प्लांट और कोयला खदानों का संचालन कर रहे हैं । अदानी जी के कार्यों से रायगढ़ वासियों को होने वाली परेशानियों पर विचार कर जनता की भी सुनिए ।

जब मोदी जी आप विद्युत संयंत्रों और कोयला खदानों के संबंध में चर्चा करेंगे तो यह भी अत्यंत आवश्यक है की वे इन से रायगढ़ के पर्यावरण को हो रहे नुकसान और आमजन को हो रही मुश्किलों के संदर्भ में भी चर्चा करें। राजनेता का धर्म होता है दोनो पक्षों का ध्यान रखना। रायगढ़ को इन संयंत्रों और खदानों से अनेकों दुश्वारियो, कठिनाइयों और स्वास्थ्य समस्याओं का सामना करना पड़ रहा है जिन पर ध्यान देकर यथोचित कार्यवाही किए जाने की त्वरित आवश्यकता है।

1.सर्वप्रथम समस्या है इन संयंत्रों और खदानों द्वारा जमीन अधिग्रहण के एवज में यथोचित मुआवजा नहीं मिलना ना ही रोजगार मिलना, रायगढ़ के किसानों की आजीविका का साधन जमीन अधिग्रहित हो जा रही है और वो मुआवजा और नौकरी पाने दर दर की ठोकरें खा रहा है। यह उचित नहीं है। मोदी जी अपने मित्रो के विस्तार से पहले ही भूमि अधिग्रहण के वाजिब मुआवजे के साथ ही रोजगार सुनिश्चित करवाएं ताकि जिसकी भूमि अधिग्रहित होने वाली है /रही है वो एक सम्मानजनक जीवन यापन कर सके।

  1. जिस क्षेत्र में संयंत्र या खदान की स्थापना किया जाना है उनके विस्थापितों के लिए तय किए गए क्षेत्र में पहले परियोजना लागत का कम से कम २% पैसा उस क्षेत्र के मूलभूत विकास में खर्च होना चाहिए तब संयंत्र स्थापना की अनुमति दी जानी चाहिए। जब १० से १५ हजार करोड़ की कोई परियोजना बनती है तो २०० से ३०० करोड़ (२%) उस क्षेत्र के अधोसंरचना विकास (सड़क, पानी, बिजली, निस्तार, स्थानीय क्षेत्र के मूलभूत कार्यों) में पहले खर्च होने से क्षेत्र और संयंत्र दोनो का विकास और विस्तार होगा। क्षेत्र स्वच्छ और माहौल खुश नुमा होगा।

3.रायगढ़ देश का एक स्थापित विकासशील और अच्छा राजस्व प्रदाय करने वाला क्षेत्र है, देश के जीएसटी और आयकर राजस्व संकलन में रायगढ़ का अच्छा और उत्तरोत्तर प्रगतिशील योगदान है। बड़ी विडंबना है की राजस्व हमारे रायगढ़ से आ रहा है और विकास हो रहा है दूसरे प्रदेशों का हमारे रायगढ़ को मूलभूत सुविधाएं ही मुहैय्या नही है हम आज भी उसी पुराने कस्बाई परिवेश में भारी प्रदूषण और कालिख में जीने को मजबूर है। रायगढ़ में ना सड़क है, ना रेल है, ना ही सामाजिक विकास है, ना अस्पताल है, ना स्कूल कालेज है, ना बाजार है , सब बेतरतीब है बिखरा हुआ गंदा हुआ पड़ा है सब ओर गंदगी है कालिख है धूल है फ्लाई ऐश है।
केंद्र/देश को जब इतना राजस्व रायगढ़ से मिल रहा है तो कम से कम रायगढ़ को स्मार्ट सिटी का दर्जा दिजिए जिससे रायगढ़ का समग्र विकास हो सके। अच्छी फोर लेन सड़के , रेल लाइन विस्तार, शहर की बायपास सड़के, बाग बगीचे, स्कूल, कालेज, अस्पताल, बाजार, बने और योजना बद्ध तरीके से स्मार्ट सिटी/विलेज बने। रायगढ़ को तत्काल स्मार्ट सिटी का दर्जा देकर योजनाबद्ध विकास करना चाहिए।

4.रायगढ़ की सबसे प्रमुख समस्या है प्रदूषण , चारो ओर फ्लाई ऐश का अंबार इक्कठा होते जा रहा है रायगढ़ के पावर प्लांटों से प्रतिदिन लगभग 1.25 लाख टन फलाई ऐश निकलती है जिसके निपटान की कोई व्यवस्था नहीं है, फलाई ऐश के निपटान की व्यवस्था तत्काल की जानी चाहिए , उनके लिए बंद कोयला खदानें तुरंत आबंटित कर उसमे फ्लाई ऐश का परिवहन पाइप के माध्यम से करके बंद कोयला खदान को मिट्टी के साथ भर कर अच्छा बाग बगीचा तैयार करवाना चाहिए ।

5.युवाओ को स्थानीय उद्योगो, खदानों, परिवहन व्यवसाय में रोजगार मिलना चाहिए।
केंद्र की स्किल डेवलपमेंट योजना के तहत रायगढ़ में एक अच्छा सर्व साधन संपन्न ड्राइविंग स्कूल होना चाहिए जिसमे हमारे स्थानीय युवा 6 माह / साल भर ट्रेनिंग लेकर एक जिम्मेदार परिवहन आपरेटर या व्यवसायी बनें, हमारे क्षेत्र में लगभग 25000 व्यवसायिक गाड़ियों और 15000 छोटी चार चक्का वाहनों का संचालन होता है, यदि हमारे क्षेत्र के युवा ड्राइविंग स्कूल से अच्छा प्रशिक्षण लेकर अच्छे आपरेटर बनते है तो कम से कम 50000 युवाओं को एक सम्मानीय वेतन के साथ स्थानीय रोजगार सरलता से सुलभ हो सकेगा।
6.स्वास्थ्य
उद्यौगिक विकास के कारण होने वाले प्रदूषण से मेरा जिला गंभीर रूप से बीमार है । स्वास्थ्य संबंधी समस्या को गंभीरता से लेते हुए रायगढ़ में AIIMS जैसे हॉस्पिटल की तुरंत निर्माण होना चाहिए

कहने को तो बहुँत कुछ है मोदी ही पर केवल 15 मिनट में अभी इतना ही, आगे आप अपने पार्टनर का ख्याल रखने पुनः आएंगे तब फेर गोठ बात करबो। अभी जमीन अधिग्रहण के एवज में नौकरी और वाजिब मुआवजा, फ्लाई ऐश का शीघ्रताशीघ्र यथोचित निपटान, सभी क्षेत्रों में फोर लेन सड़के, व्यवसायिक क्षेत्र में रेल विस्तार, शहर विकास प्राधिकरण, रायगढ़ को स्मार्ट सिटी का दर्जा, अच्छी चिकित्सा सुविधा, रोजगारनोमुखी शिक्षा की व्यवस्था अपने अधीनस्थ विभागों को निर्देशित कर जल्द से जल्द करने का आदेश दे देंगे तो बड़ी मेहरबानी होगी और सचमुच में देश एक व्यवस्थित और विकसित राष्ट्र बनने की ओर कदम बढ़ाएगा।

रायगढ़ का शुभचिंतक
डॉक्टर राजेंद्र अग्रवाल (राजू)
9425274160
drrkagrawalraigarh@gmail.com

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!