भारत

CDS हेलीकॉप्टर दुर्घटना में ये सच्चाई आयी सामने…..जल्द ही सौंपी जा सकती है जांच रिपोर्ट….आइए जानते हैं….ये कारण आया अब तक….पढ़ें न्यूज़ मिर्ची-24

CDS हेलीकॉप्टर दुर्घटना में ये सच्चाई आयी सामने…..जल्द ही सौंपी जा सकती है जांच रिपोर्ट….आइए जानते हैं….ये कारण आया अब तक….पढ़ें न्यूज़ मिर्ची-24

(Aaa)नई दिल्ली 2 जनवरी 2022 ।जिस हेलीकॉप्टर दुर्घटना में सीडीएस जनरल बिपिन रावत सहित 14 लोगों की मौत हुई थी, आखिरकार उस हेलीकॉप्टर में हुआ क्या था ? आखिर कैसे इतना सृरक्षित हेलीकॉप्टर दुर्घटनाग्रस्त हो गया ? इस सवाल और सस्पेंस से हर कोई पर्दा उठाना चाहता है। एयरफ़ोर्स की उच्चस्तरीय टीम हेलीकॉप्टर क्रैश होने के मामले में जांच में जुटी है। ग्राउंड रिपोर्टिंग पूरी होने के बाद हेलीकॉप्टर दुर्घटना मामले की जांच रिपोर्ट वायु सेना प्रमुख को सौंपी जा सकती है। अभी तक की जांच में जो बातें सामने आ रही है उसके मुताबिक पीडीएस का हेलीकॉप्टर खराब मौसम के कारण क्रैश हुआ था इस घटनाक्रम की पूरी जांच एयर मार्शल मानवेंद्र सिंह की कमेटी कर रही है अब ग्राउंड रिपोर्टिंग के बाद रिपोर्ट को लीगल विंग के पास भेजा गया है लिहाजा टेक्निकल क्रॉउन और साक्ष्यों के आधार पर अभी तक की जांच रिपोर्ट यही बता रही है कि पूरे मामले में खराब मौसम दुर्घटना का मुख्य वजह वाला था हालांकि अभी और कई स्तर पर जांच चल रही है लिहाजा निष्कर्ष पर पहुंचना तत्काल संभव नहीं हो पा रहा है लेकिन इतना तो जरूर है कि शुरुआती जांच में खराब मौसम को इस पूरे घटना के पीछे की वजह माना जा रहा है…बता दें कि 8 दिसंबर को सीडीएस जनरल बिपिन रावत तमिलनाडु के सुलूर एयर बेस से वायुसेना के मी-17वी5 हेलिकॉप्टर से ऊंटी के करीब वेलिंग्टन में डिफेंस सर्विस स्टाफ कॉलेज जा रहे थे. उसी दौरान उनका हेलिकॉप्टर दुर्घटनाग्रस्त हो गया था.वायुसेना की तरफ से रिपोर्ट को लेकर कोई आधिकारिक बयान नहीं आया है, लेकिन सूत्रों के मुताबिक, क्रैश के कारणों की जांच कर रही कमेटी ने पाया है कि खराब मौसम के चलते पायलट ‘डिसओरिएंट’ हो गए होंगे, जिसके चलते हादसा हुआ.जांच कमेटी ने वायुसेना और थलसेना के संबंधित अधिकारियों के बयान रिकॉर्ड किए हैं. साथ ही उन स्थानीयों लोगों से भी बातचीत की है जो इस दुर्घटना के प्रत्यक्षदर्शी थे. उस मोबाइल फोन की जांच भी की गई है, जिससे क्रैश से तुरंत पहले का वीडियो शूट किया गया था. क्रैश हुए हेलिकॉप्टर का एफडीआर यानि फ्लाईट डेटा रिकॉर्डर यानि ब्लैक-बॉक्स भी घटनास्थल से बरामद कर लिया गया था. उसका डेटा भी रिपोर्ट में शामिल किया गया है.

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
error: Content is protected !!